गर्भावस्था के दौरान भूलकर भी न पीएं ये 6 ड्रिंक्स, हो सकता है गर्भपात !

गर्भावस्था के दौरान हर महिला को अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत होती है क्योंकि इस दौरान वह जो भी खाती है उसका सीधा असर उसके गर्भ में पल रहे शिशु पर पड़ता है. जो न केवल मां के लिए बल्कि शिशु के लिए भी बेहद हानिकारक होता है. इसलिए हर गर्भवती महिला को हेल्दी चीज़ों का सेवन करना चाहिए ताकि जच्चा और बच्चा दोनों ही सेहतमंद रहे. कई बार गर्भावस्था के दौरान महिलाएं क्रेविंग के चलते कुछ ऐसी चीजों का सेवन करती है जो उनकी सेहत के लिए हानिकारक साबित होती है. वहीं, कुछ ऐसे भी ड्रिंक्स है जिनका सेवन गर्भावस्था के दौरान करने से महिला में गर्भपात का ख़तरा बढ़ सकता है.

वीटग्रास जूस

  • वैसे तो वीटग्रास जूस सेहत के लिए बेहद लाभकारी होता है, लेकिन गर्भावस्था के दौरान इसका सेवन करने से अबॉर्शन का ख़तरा भी बढ़ जाता है. दरअसल, वीटग्रास में माइक्रोब्स नामक बैक्टीरिया होता है, जिससे डायरिया और उल्टी का ख़तरा हमेशा ही बना रहता है.

ग्रीन टी

  • वैसे तो ग्रीन टी मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने के लिए बेहद लाभदायक है. लेकिन, इसमें कैफीन और टेनिन्स पाए जाते हैं, जो गैस्ट्रिक जूस को डाइल्यूट करके पेट को नुकसान पहुंचा सकते हैं. इसके अलावा, गर्भावस्था में कैफीन का सेवन न केवल गर्भवती महिला बल्कि शिशु की सेहत को भी नुक्सान पहुंचाता है.

कॉफी

  • गर्भावस्था में कॉफी पीने से भ्रूण पर कई हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं, क्योंकि कैफीन प्लासेंटल मेम्ब्रेन के जरिये बच्चे के ब्लड में जा सकता है. इसके अलावा, कॉफ़ी का ज्यादा सेवन करने से गर्भवती महिला में अनिद्रा की परेशानी, उच्च रक्तचाप और तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है.

डायट सोडा

  • गर्भावस्था में सॉफ्ट ड्रिंक, सोडा और दूसरे शुगर से भरपूर ड्रिंक पीने से गर्भ में पल रहे शिशु को भविष्य में मोटापे की शिकायत हो सकती है. इसकी जगह आप फ्रेश जूस पीएं.

अनानास का जूस

  • गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान अनानास के जूस का सेवन बिल्कुल न करें क्योंकि इसके सेवन से शरीर में ब्रोमेलैन (bromelain) नामक पदार्थ की मात्रा बढ़ जाती है जो गर्भपात की वजह बन सकता है.

अल्कोहल

  • गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन करने से गर्भ में पल रहे शिशु के विकास में बाधा आती है. शोध की मानें, तो शराब का सेवन करने से मिसकैरैज और गर्भ में ही शिशु की मुत्यु होने की सम्भावनाएं बढ़ जाती है.

और लेख पढ़ें -

पाएं बेहतरीन लेख और वीडियो रोज़ - आज ही डाउनलोड करें 2+ लाख माताओं की भरोसेमंद MYLO ऐप मुफ्त में!

×